BREAKING : सीतामढ़ी में बाढ़ के संभावित खतरे को लेकर जिला प्रशासन अलर्ट मोड पर, पढ़ें पूरी ख़बर

0

भारी वर्षा एवं नदियो के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह व एसपी अनिल कुमार ने समाहरणालय में आपदा की आपात बैठक किया. बैठक में तत्काल सभी प्रकार की छुट्टियां रद्द कर दी गई है. वरीय पदाधिकारियों की कई टीमें बांधो के निरीक्षण के लिये रवाना की गई है. डीएम ने लोगो से ऊंचे स्थान पर जाने के लिए अपील किया है.

इससे पूर्व बागमती नदी पर रुन्नीसैदपुर से भादाडीह तक डीएम ने बांध का 4 घंटे किया निरीक्षण. कई जगहों पर रेन कट का पता चला जिसके बाद डीएम ने कार्यपालक अभियंता को बुलाकर मरम्मती कार्य शुरू करवाई.


रुन्नीसैदपुर मध्य, खड़क पंचायत, शिव नगर आदि जगहों पर बांध में रेन कट का पता चला. भादादिह के पास लैंड्स पर का भी डीएम ने किया निरीक्षण. उन्होंने ने उसके आस-पास एक और लैंड्स्पार बनाने का दिया निर्देश ताकि वहाँ से नदी की धारा को मोड़ा जा सके, जिससे बांध पर दवाव कम होगा. उन्होंने बांध के आस पास बालू एवम बैग के स्टॉक की भी जाँच किया और निर्देश दिया कि पर्याप्त संख्या में सैंड बैग तैयार रखे.

उन्होंने इंजीनियर सहित सभी कर्मियों को निर्देश दिया कि लगातार 24 घंटे बांध का निरीक्षण करते रहे. किसी भी खतरे का अहसास होते ही तुरंत जिला आपदा नियंत्रण कक्ष के नंबर 06226-250316 पर तुरंत सूचित करें. गौरतलब हो कि आपदा नियंत्रण कक्ष के ऊक्त नंबर पर कोई भी व्यक्ति कटाव, जलस्तर आदि की सूचना दे सकता है.


डीएम ने उपस्थित इंजीनियर एवम कर्मियों को आपात स्थिति से निपटने के लिए कई टिप्स भी बताए। उन्होंने स्वयं जिला आपदा नियंत्रण कक्ष में फोन करके उसकी गतिविधयों का जाँच किया और संतुष्ट हुए। डीएम ने अन्य नदियों के जलस्तर का भी जायजा लिया और आपदा प्रभारी को निर्देश दिया कि सुबह-शाम जलस्तर का बुलेटिंग भी जारी करें.

उन्होंने सभी पदाधिकारियो को अलर्ट मोड पर रहने का निर्देश दिया. डीएम ने अपील जारी किया है कि भारी वर्षा एवम नदियों के जलस्तर को देखते हुए नदी किनारों से दूर रहे विशेषकर अपने बच्चों को नदी, पोखर में स्नान नही करने दें. किसी भी विपरीत स्थिति होने पर तुरंत जिला आपदा नियंत्रण कक्ष में फोन करें. उन्होंने कहा कि थोड़ी सी भी सावधानी हमे कई परेशानियों से बचा सकता है.

© SITAMARHI LIVE | TEAM.



Comment Box