15 मार्च तक रीगा चीनी मिल के किसान – मजदूरों का होगा भुगतान : डीएम | सीतामढ़ी लाइव

0
65

रीगा चीनी मिल अनवरत चलता रहेगा। 15 मार्च तक कामगारों को ओवर टाइम और बोनस की राशि दी जाएगी, वहीं 15 अप्रैल तक बकाया एरियर का भी भुगतान किया जाएगा।

Dr. Ranjit Kumar Singh, DM, Sitamarhi.

चीनी मिल प्रबंधन और मजदूरों के बीच लगातार बढ़ रहे टकराव को देखते हुए डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह ने मामले में खुद संज्ञान लेते हुए रविवार को रीगा चीनी मिल पहुंच कर मिल प्रबंधन और मजदूर यूनियन के साथ बैठक कर मामले का समाधान निकाला। नव पदस्थापित एसपी अनिल कुमार, एसडीपीओ सदर डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र, एसडीओ सदर मुकुल कुमार गुप्ता, रीगा बीडीओ नीतू प्रियदर्शिनी व रीगा थानाध्यक्ष सुभाष मुखिया समेत अधिकारियों की टीम के साथ रीगा पहुंचे डीएम ने चीनी मिल का निरीक्षण किया। वहीं चीनी मिल प्रबंधन और कामगार यूनियन के साथ बैठक कर समस्या का समाधान किया।


डीएम ने मजदूरों की समस्या सुनी। डीएम ने रीगा चीनी मिल प्रबंधन को हर हाल में होली के पहले कामगारों को ओवर टाइम और बोनस देने का निर्देश दिया। वहीं 15 अप्रैल तक बकाया एरियर का भी भुगतान करने का आदेश दिया। डीएम ने नियुक्ति के मामलों में मिल प्रबंधन को यूनियन के साथ बैठक करने का आदेश दिया। डीएम ने कहा कि सफलता पूर्वक मिल का संचालन ही प्रबंधन और कामगारों की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। कहा कि इस चीनी मिल से न सिर्फ 400 से अधिक कामगारों के परिवार बल्कि, लगभग 60,000 से अधिक जिले के किसानों का हित जुड़ा हुआ है। यह इलाके का एक मात्र उद्योग है। ऐसे में यह पहला दायित्व है कि हर हाल में रीगा चीनी मिल का सफलतापूर्वक संचालन हो। डीएम ने कहा कि मजदूरों की सभी समस्याओं का समाधान होगा।

रीगा चीनी मिल प्रबंधन और मजदूरों के बीच टकराव की स्थिति उत्पन्न हो रही थी, लिहाजा यह बैठक की गई है। डीएम ने कहा कि किसानों के गन्ना मद के बकाये राशि का भी शीघ्र भुगतान किया जाएगा। डीएम ने बताया कि पूर्व में मिल पर किसानों का 100 करोंड़ रुपये बकाया था। काफी संख्या में किसानों का भुगतान भी किया गया है। अब किसानों का 37 करोड़ रुपये बकाया रह गया है। बताते चलें कि पिछले दिनों मांगों को लेकर रीगा चीनी मिल व‌र्क्स यूनियन ने आन्दोलन किया था। डीएम के आश्वासन पर कामागारों ने हड़ताल समाप्त कर दी। बावजूद इसके कोई पहल नहीं हुई।

इधर, मिल प्रबंधन और कामगारों के बीच तल्खी बढ़ती जा रही थी। कामगार यूनियन 27 फरवरी से एक बार फिर हड़ताल पर जाने की तैयारी में था। इसी बीच 25 फरवरी को चीनी मिल पहुंचे डीएम ने मिल प्रबंधन और कामगारों के टकराव को समाप्त कर दिया था। हालांकि एक बार फिर मजदूर यूनियन और मिल प्रबंधन के बीच टकराव की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। कामगार यूनियन ने 13 मार्च सें बेमियादी आंदोलन का एलान कर दिया था। लिहाजा रविवार को पहुंचे डीएम ने एक बार फिर टकराव को समाप्त किया।

Sources:- Dainik Jagran | .


Comment Box