हड़ताल पर रहे वकील, लोग मायूस होकर लौटे | सीतामढ़ी लाइव

0

बार काउंसिल ऑफ इंडिया के आवाहन पर जिले भर के अधिवक्ता मंगलवार को हड़ताल पर रहे. इस दौरान न्यायिक कार्य बुरी तरह प्रभावित हुआ. सात सूत्री मांगों को लेकर हड़ताली वकीलों ने सिविल कोर्ट के मुख्य गेट पर केंद्र सरकार के विरोध में प्रदर्शन किया, इसके साथ ही सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी भी की. वकीलों की हड़ताल पर रहने के कारण जजों व न्यायिक पदाधिकारियों का इजलास भी खाली रहा. सूत्रों की माने तो मंगलवार को हड़ताल की वजह से करीब 12 सौ से अधिक मुकदमे की सुनवाई नहीं हो सकी. वहीं इससे सरकारी राजस्व को लगभग ₹800000 की क्षति पहुंची. इन लोगों को अगली तारीख लेकर वापस लौटना पड़ा. दिन भर अदालत परिसर में लोग हाजिरी वह गवाही संबंधित कार्य के लिए निराश होकर लौटते रहें. हालांकि हड़ताल के दौरान कोर्ट में पूरी तरह से शांति बनी रही. हड़ताल को सफल बनाने के लिए स्टेट बार काउंसिल के सदस्य सह लोक अभियोजक अरुण कुमार सिंह के नेतृत्व में वकीलों ने कोर्ट परिसर का भ्रमण किया.

स्टेट बार काउंसिल के सदस्य श्री सिंह ने कहा कि पूरे भारत के वकील आज हड़ताल पर है. 10 बिंदुओं पर केंद्र सरकार से मांग की गई है. इसी मांग को लेकर हम लोगों ने न्यायिक कार्य का बहिष्कार करने का देशव्यापी निर्णय लिया है. इससे स्पष्ट है कि पहले लोग वकीलों के कार्य को व्यक्तिगत कार्य समझते थे, जो अब ऐसा नहीं रह गया है. वकीलों के कल्याण के लिए भी सरकार की जवाबदेही बनती है.


© Sitamarhi LIVE | Team


Comment Box