सोमवार को होना है सीतामढ़ी में मतदान, चुनाव को लेकर प्रशासनिक तैयारी पूरी : डीएम

0

डीएम रामचंद्रूडू ने कहा कि जिले में स्वच्छ, निष्पक्ष और शांतिप्रिय तरीके से लोकसभा चुनाव के लिए मतदान होगा। बूथों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होंगे। जिले के 1096 भवनों में कुल 1776 बूथों पर मतदान किया जाएगा। जिले में पहली बार सभी विस क्षेत्रों में कुल 17 आदर्श बूथ बनाए गए हैं। जहां मतदान कराने की जिम्मेदारी महिलाओं पर होंगी। इन बूथों पर पीठासीन पदाधिकारी से लेकर कर्मी तक महिलाएं ही होंगी। जबकि बूथ संख्या 166 पर केवल दिव्यांग मतदाता वोट कर सकेंगे। इस बार बूथों पर तीन कतारें लगेगी। महिला और पुरुष के अलावा दिव्यांगों तथा वृद्ध जन के लिए। बूथों पर पहुंचने वाले दिव्यांग और वृद्धों का पहले स्वागत किया जाएगा, साथ ही उनसे तुरंत मतदान कराया जाएगा। जबकि 54 बूथों पर वेब कास्ट की व्यवस्था होगी। इसके लिए 118 कैमरे का उपयोग किया जा रहा है। सभी बूथों पर वीवीपैट की व्यवस्था होगी।


डीएम शनिवार को समाहरणालय स्थित विमर्श कक्ष में प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान डीएम ने कहा कि जिले में निर्वाचन आयोग के निर्देशों का शत प्रतिशत पालन किया गया है। अब तक आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के 56 मामलों में कार्रवाई की गई है। इसके तहत 17 प्राथमिकी दर्ज की गई है। डीएम ने बताया कि शनिवार की शाम प्रत्याशियों का प्रचार अभियान समाप्त हो गया है। सीतामढ़ी सीट से कुल बीस प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। इसके चलते सभी बूथों पर दो-दो बैलेट यूनिट का उपयोग किया जाएगा। डीएम ने बताया कि मतदान के समय को लेकर लोगों में कंफ्यूजन है।



डीएम ने स्पष्ट किया कि इस बार सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक लोग वोट डाल सकेंगे। शाम छह बजे तक जो भी मतदाता कतार में लगेंगे, उन्हें वोट देने का मौका मिलेगा, चाहे कितना भी समय क्यों न लगे। डीएम ने बताया कि कुल 1096 भवनों में बनाए गए 1776 बूथों में से 495 भवनों में अवस्थित 676 बूथ अति संवेदनशील है। इन बूथों पर सीआरपीएफ और अन्य पारा मिलिट्री फोर्स तैनात की जाएगी। 31 भवनों में अवस्थित 50 बूथ नक्सल इलाकों में है। यहां भी सुरक्षा की कमान पारा मिलिट्री फोर्स के जिम्मे होगी। शेष बूथों पर बीएमपी और जिला बल के जवानों की तैनाती रहेगी। डीएम ने बताया की जिले में पारा मिलिट्री फोर्स की 40 कंपनी आ गई है। जबकि 7388 पुलिस अधिकारी और जवान मतदान कराएंगे। बताया कि 1776 कंट्रोल यूनिट के अलावा 178 अतिरिक्त कंट्रोल यूनिट, 355 अतिरिक्त बैलेट यूनिट और 178 वीवीपैट रिजर्व रखा गया है। ताकि इवीएम खराब होने की स्थिति में उसे तुरंत बदला जा सके। इवीएम के लिए विधान सभा स्तर पर क्यूआरटी गठित की गई है, जो जरूरत पड़ने पर तुरंत इवीएम को बूथ पर पहुंचा खराब इवीएम की जगह दूसरा इवीएम लगा सके।


डीएम ने बताया कि समाहरणालय के विमर्श कक्ष में विधान सभावार कंट्रोल रूम बनाया गया है। जहां किसी भी प्रकार की सूचना या शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। यह कंट्रोल रूम लगातार काम करता रहेगा, शिकायतों का त्वरित निष्पादन कराया जाएगा। डीएम ने बताया कि मतदान केंद्रों की सुरक्षा व्यवस्था बहुस्तरीय है। जिसमें पोलिग मजिस्ट्रेट, पुलिस अधिकारी, सेक्टर मजिस्ट्रेट और जोनल मजिस्ट्रेट आदि की 187 टीमें शामिल है।


डीएम ने बताया कि पोस्टल बैलेट के जरिए अब तक कुल 4436 वोट डाले जा चुके है। जिन्हें सील लिफाफ में ट्रेजरी में सुरक्षित रखा गया है। एमपी हाईस्कूल और डायट भवन में स्ट्रांग रूम बनाया गया है। जहां सुरक्षा के पुख्ता बंदोवस्त है। सीसीटीवी से इसकी निगरानी भी हो रही है। डीएम ने बताया कि रविवार को एमपी हाईस्कूल और डायट भवन से इवीएम-वीवी पैट का वितरण किया जाएगा। वितरण के दौरान ही अधिकारियों को उनके बूथों की जानकारी दी जाएगी। रविवार को वितरण के पूर्व डीएम, एसपी और प्रेक्षक दंडाधिकारियों को संबोधित करते हुए निर्देश भी देंगे।

डीएम ने कहा कि सुरक्षा के मद्देनजर 31,794 कमजोर लोगों को चिन्हित किया गया है, वहीं मतदाताओं को डराने वाले 861 लोगों को चिन्हित करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है। आ‌र्म्स सत्यापन नहीं कराने वाले 26 लोगों का लाइसेंस रद किया गया है। 265 में 238 के विरूद्ध सीसीए की कार्रवाई की गई है। वहीं बड़ी संख्या में उपद्रवी तत्वों के खिलाफ थाना और जिलाबदर की कार्रवाई की गई है। डीएम ने बताया कि निर्वाचन कार्य के प्रति कोताही बरतने वाले कर्मी और अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। मतदान के पूर्व नेपाल समेत अन्य जिले से लगी सीमाएं सील की जाएगी। डीएम ने बताया कि जिन बूथों पर बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था नहीं हो सकी है, वहां रविवार को सारी व्यवस्था कर ली जाएगी।

Input : Dainik Jagran.



Comment Box