सीतामढ़ी के सिनेमाघरों में गृह मंत्रालय के आदेश की उड़ रही धज्जियाँ

0
77

वैश्विक महामारी का रूप ले चुके कोरोना ने पूरी दुनिया में तबाही मचाई है. भारत इससे अछूता नहीं है. भारत ने भी इस महामारी को झेला है और अब तक झेल रहा है.

कोरोना की कोई दवाई या वैक्सीन नहीं होने के कारण इससे बचाओ ही एकमात्र इसके संक्रमण में आने से बचने का तरीका है. जब देश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या अधिक थी, तब इसे बचाव के लिए सरकार ने लॉकडाउन लगाया था.


कई महीनों तक लॉकडाउन रहने के बाद एक-एक कर अनलॉक की प्रक्रिया चली. इसी क्रम में गृह मंत्रालय ने सिनेमाघरों को खोलने का निर्देश दिया था. इसके साथ ही कोरोना से बचाव के लिए निर्देशों का पालन करने का आदेश भी दिया गया. इसके बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एक एसओपी जारी करने के साथ सिनेमाघरों को खोलने के आदेश दे दिए थे.

इन सभी आदेशों एवं निर्देशों के उलट सीतामढ़ी के सिनेमाघरों में एक भी नियमों का पालन नहीं हो रहा है. सिनेमाघरों के अंदर ना तो एक सीट छोड़कर बैठने जैसी कोई व्यवस्था है और ना ही मास्क या तापमान चेक करने की कोई व्यवस्था. यहां तक कि सिनेमाघर के स्टाफ भी बिना मास्क के टिकट चेक करते दिखाई पड़ें.

शनिवार की देर शाम सीतामढ़ी लाइव की टीम शहर स्थित शंकर टॉकीज पहुंची जहां उन्होंने पाया कि गृह मंत्रालय एवं सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के कोरोना से बचाव को लेकर किसी भी निर्देश का पालन नहीं हो रहा है. सिनेमाघर के बाहर कोरोना से बचाव को लेकर बैनर, पोस्टर लगा है.

केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को कंटेनमेंट जोन के बाहर सिनेमा घरों और स्कूलों को आंशिक तौर पर खोलने की अनुमति दी थी. जिसका पालन करते हुए बिहार सरकार ने राज्य के सभी सिनेमाघरों और मल्टीप्लेक्स को खोलने की अनुमति दी है.

SOP को कराना होगा पालन

सिनेमाघर और मल्टीप्लेक्स खोलने के लिए इन्हें एसओपी (standard operating procedure) का पालन करना होगा. एसओपी जिसे मानक संचालन प्रक्रिया कहा जाता है, जिसमें प्रशासन की एक निश्चित प्रक्रिया के अनुसार काम किया जाता है.



Comment Box