सीतामढ़ी में रेडलाइट एरिया से बांग्लादेशी समेत 5 लड़कियां मुक्त

0

नई दिल्ली की जस्टिस वेंचर्स इंडिया ट्रस्ट नामक एक स्वयंसेवी संगठन की निशानदेही व एसपी अनिल कुमार के निर्देश पर पुलिस प्रशासन की टीम ने शहर के रेडलाइट एरिया में छापेमारी कर बांग्लादेशी समेत 5 नाबालिग लड़कियों को मुक्त कराने में सफलता पाई है। साथ ही 3 महिला समेत 5 दलालों को भी गिरफ्तार किया है।

फिलहाल पुलिस की टीम मुक्त कराई गई लड़कियों और गिरफ्तार दलालों से सघन पूछताछ कर रही थी। गिरफ्तार दलालों में रेडलाइट एरिया सरगना मंजूर खलीफा का भाई जाने अली और साला पश्चिम बंगाल के मालदह निवासी मोमीन के अलावा 3 अन्य महिलाएं हैं। तीनों महिला दलाल देह व्यापार अड्डा संचालकों की पत्नी हैं। वहीं मुक्त कराई गई लड़कियों में दो बंगलादेश, 2 बंगाल और एक बिहार की है। लड़कियों की उम्र 14-15 वर्ष है। मुक्त कराई गई लड़कियों ने बताया है कि उन्हें यहां लाकर जबरन वेश्यावृत्ति कराया जाता है। एक दिन में 14-15 लोग उनकी जिस्म को रौंदते रहे हैं। विरोध करने पर उन्हें यातना दी जाती रही है। यहां तक की उन्हें तहखाने में रखा जाता है।


बताते चलें कि बंगाल और बंगलादेश से ट्रैफिकिग कर इन लड़कियों को सीतामढ़ी में लाकर वेश्यावृत्ति कराने की मिली सूचना के बाद नई दिल्ली की जस्टिस वेंचर्स इंडिया ट्रस्ट नामक एक स्वयंसेवी संगठन के नेशनल डायरेक्टर एबराज और स्टेट मैनेजर संजू सिंह के नेतृत्व में एक टीम सीतामढ़ी पहुंची। इस टीम ने तय रणनीति के तहत रेडलाइट एरिया में पहुंच कर जानकारी ली। ठोस जानकारी के बाद यह टीम एसपी के पास पहुंची। एसडीपीओ सदर डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र, एसडीओ सदर मुकुल कुमार गुप्ता, सर्किल इंस्पेक्टर विजय कुमार यादव, नगर थानाध्यक्ष सुबोध मिश्रा, महिल थाने की अवर निरीक्षक मालती कुमारी और क्यूआरटी की टीम ने तय रणनीति के तहत मंगलवार की दोपहर शहर के वार्ड नौ स्थित रेडलाइट एरिया में छापेमारी की।

इस दौरान मंजूर खलीफा के घर से पांच लड़कियों को मुक्त कराया। वहीं उसकी दो पत्नी समेत तीन महिला, भाई और साला समेत पांच दलालों को दबोच लिया। जस्टिस वेंचर्स इंडिया ट्रस्ट नामक एक स्वयंसेवी संगठन के नेशनल डायरेक्टर एबराज ने बताया कि सीतमढ़ी समेत बिहार में वेश्यावृत्ति कराने का रैकेट सक्रिय है। जो ट्रैफिकिग के जरिए लड़कियों को फांस कर देह व्यापार कराते है। बताया कि पुलिस ने इस पूरे रैकेट का पता लगा दिया है। शीघ्र ही सभी को दबोचा जाएगा। बताया कि मुक्त कराई गई लड़कियों में बंगलादेश की भी है।


बताते चलें कि इस एनजीओ की पहल पर सीतामढ़ी रेड लाइट एरिया में तीसरी बार छापेमारी हुई है, जिसमें पुलिस को सफलत मिली है। इसके पूर्व पुलिस द्वारा 24 अप्रैल 2017 और 23 नवंबर 2018 को छापेमारी की गई थी। इधर, पुलिस की टीम अब मंजूर खलीफा के घर को सील करने की तैयारी में है।

Sitamarhi LIVE | TEAM.



Comment Box