सीतामढ़ी में पर्यटन का मॉडल तैयार करने के लिए टीम भेजेगी सरकार

0
147

मां सीता की प्राकट्यस्थली सीतामढ़ी के विकास को लेकर लगातार मांग उठती आई है. सरकार ने करोड़ों रुपए से माता सीता का भव्य मंदिर बनाने का वादा किया था. सीएम नीतीश खुद मां सीता की चरणों में आए थे. भारत के वर्तमान राष्ट्रपति व तत्कालीन राज्यपाल रामनाथ कोविंद भी यहां आशीर्वाद लेने आ चुके हैं. बावजूद इसके सीतामढ़ी पर्यटक के मामले में उपेक्षा का शिकार है.

बिहार विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद नए पर्यटन बने जीवेश मिश्रा पहली बार सीतामढ़ी पहुंचे. यहां उन्होंने प्रेस वार्ता आयोजित की. प्रेस वार्ता में उन्होंने जानकी भूमि को विकसित करने को लेकर प्रतिबद्ध बताया उन्होंने सरकार की पॉलिसियों को बताया.


उन्होंने कहा कि सीतामढ़ी को पर्यटन के क्षेत्र में विकसित करेंगे. वर्ल्ड क्लास सुविधा देंगे. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिस तरह अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण कराया जा रहा है. इसके अध्ययन के लिए बिहार सरकार का पर्यटन विभाग अपना एक टीम भेजेगा. टीम अध्ययन करने के बाद सरकार को रिपोर्ट देगी. इसके साथ सीतामढ़ी में भी पर्यटन विभाग अपनी टीम भेजेगी.

सीतामढ़ी में रामायण सर्किट से जुड़े एक-एक तीर्थ स्थलों का अवलोकन का करेगी. यहाँ विकास की संभावनाओं को तलाशेगी. टीम अपनी रिपोर्ट पर्यटन विभाग को सौंपेगी. इसके बाद सरकार एक नया ब्लूप्रिंट तैयार करेगी जिससे सीतामढ़ी का विकास किया जाएगा. यहां भी अयोध्या जितना ही भव्य कार्यक्रमों का आयोजन होगा.

उन्होंने कहा इसके लिए चाहे जितनी राशि खर्च करनी पड़े सरकार करेगी. इस अवसर पर सीतामढ़ी के नगर विधायक मिथिलेश कुमार, रीगा के विधायक मोतीलाल प्रसाद, बथनाहा के विधायक अनिल राम, पूर्व विधान पार्षद वैद्यनाथ प्रसाद, भाजपा के जिला अध्यक्ष सुबोध सिंह समेत दर्जनों नेता एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे.

© SITAMARHI LIVE | TEAM.



Comment Box