सीतामढ़ी के स्कूलों में नामांकन का बना रिकॉर्ड

0

मेरा विद्यालय मेरा अभियान के तहत डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह के निर्देश पर चलाए गए नामांकन अभियान में एक दिन में सरकारी स्कूलों में कुल 20 हजार 950 बच्चों का बुधवार को नामांकन किया गया है।

पिछले साल डीएम की पहल पर एक ही दिन में कुल 17,605 बच्चों का नामांकन हुआ था। लिहाजा जिले का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था। इस बार चले अभियान के दौरान नामांकन कार पिछला रिकॉर्ड टूट गया है। नामांकन का यह डीएम का एक और सफल अभियान साबित हुआ है। इस अभियान के तहत एक दिन में 20950 बच्चों का नामांकन कर जिले एक बार फिर नया कीर्तिमान बनाया है। कुल 2741 बच्चों का नामांकन कर परिहार प्रखंड पहले स्थान पर रहा है। जबकि 2706 बच्चों का नामांकन कर डुमरा प्रखंड दूसरे और 2508 बच्चों का एक दिन में नामांकन कर रुन्नीसैदपुर प्रखंड तीसरे स्थान पर रहा। सबसे कम 335 बच्चों का नामांकन सुप्पी प्रखंड में हुआ हैं।


इसके अलावा बैरगनिया में 564, बाजपट्टी में 1188, बथनाहा में 1556, बेलसंड में 729, बोखड़ा में 972, चोरौत में 515, मेजरगंज में 493, नानपुर में 991, परसौनी में 616, पुपरी में 1060, रीगा में 1090, सोनबरसा में 1388 और सुरसंड प्रखंड में 1498 बच्चों का नामांकन किया गया। पिछले वर्ष जिले ने एक ही दिन में 17605 छात्रों का नामांकन कर लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज किया था।

डीएम डॉ रणजीत सिंह का प्रयास का ही नतीजा है कि जिले ने एक बार अपनी ही बनाई गई रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है। डीएम ने सभी पदाधिकारियों व कर्मियों को बधाई देते हुए इसे सामूहिक प्रयास का परिणाम बताया है। बताते चलें कि डीएम ने स्कूल के बाहर के बच्चों का नामांकन कराने के लिए वृहद अभियान की शुरूआत की थी। नामांकन के लिए पूरे जिले में जन जागरूकता अभियान चलाए गए थे। सभी स्कूलों के पोषक क्षेत्रो में प्रभातफेरी आदि का आयोजन किया गया था। साथ ही मोबाइल मैसेज के जरिए डीएम की आवाज में नामांकन के लिए संदेश घर-घर पहुंचा था। इससे उत्साहित लोगों ने अपने बच्चों का नामांकन निकटतम स्कूलों में कराया है।


Input : Dainik Jagran.



Comment Box