सिंहवाहिनी पंचायत की मुखिया रितु जायसवाल को मिला फ्लेम लीडरशिप अवार्ड

0

कई प्रतिष्ठित अवार्ड से सम्मानित सोनबरसा प्रखंड की सिंहवाहिनी पंचायत की मुखिया रितु जायसवाल की झोली में एक और अवार्ड आया है।

उनको अंतरराष्ट्रीय सम्मान फ्लेम लीडरशिप अवार्ड 2019 से नवाजा गया है। शुक्रवार को मुम्बई के होटल ताज सैंटा क्रूज में रुरल मार्केटिग एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आरएमएआई) नामक संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम मुखिया को त्याग की प्रतिमूर्ति मानते हुए उनके द्वारा अपनी पंचायत के विकास के लिए किए जा रहे ईमानदार प्रयास के लिए फ्लेम लीडरशिप अवार्ड-2019; अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

पूरे एशिया से तीन सौ से अधिक विभिन्न कंपनियों के प्रमुखों व अपने-अपने क्षेत्र के कई दिग्गज हस्तियों के लगभग तीन सौ चुनिदा हस्तियों में से अंतिम रूप से पांच लोगों को इस सम्मान के लिए चयनित किया गया। इनमें एक नाम मुखिया रितू जायसवाल का रहा। इस प्रतिष्ठित सम्मान से सम्मानित होने वालों में रितु जायसवाल के अलावा फोर्स मोटर्स के बिजनेस हेड अरविद कुमार, स्मार्ट केएम टेक्नोलॉजी के वाईस प्रेसीडेंट नरेश देशमुख, इम्पैक्ट कम्यूनिकेशन के संस्थापक व सीईओ संजय कौल तथा गुप्ता पावर इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड शामिल है।


पूर्व के वर्षों में इस सम्मान से सम्मानित होने वालों की सूची में रिलायंस फाउंडेशन, टाटा कंपनी, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन आदि भारत की कई दिग्गज कंपनियों के सीईओ, चेयरमैन और प्रमुख का नाम शामिल है। यह पहला अवसर है कि इस सम्मान से किसी मुखिया को सम्मानित किया गया है।

कार्यक्रम के दौरान मुखिया ने समारोह में चमकी बुखार और उसकी वजह गरीब के राशन, पोषाहार और मिड डे मील में व्याप्त भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया था। संस्था के अध्यक्ष राज कुमार झा समेत मौजूद लोगों ने रितु जायसवाल की सराहना की। संबोधन के दौरान मुखिया रितु ने मुजफ्फरपुर में एईएस से हो रही बच्चों की मौत पर दुख जताया। वहीं इसे शर्म का विषय बताया। कहा कि इन सब के पीछे भ्रष्ट सरकारी नौकरों द्वारा जन वितरण प्रणाली के तहत राशन, आंगनवाड़ी में पोषाहार और स्कूल में मिड डे मील में अपना हिस्सा खाने जैसी वजह प्रमुख हैं जो बच्चों को कुपोषित कर रहा है। इसकी वजह से ऐसी बीमारियां फैलती हैं।


Sources : Dainik Jagran.



Comment Box