सदर अस्पताल में मरीज की मौत पर बवाल के बाद तोड़फोड़, विरोध में हड़ताल पर गए चिकित्सक

0

सदर अस्पताल में बुधवार की देर रात दमा के मरीज की इलाज के दौरान हुई मौत से नाराज परिजन ने न केवल अस्पताल में तोड़फोड़ की बल्कि, डयूटी पर तैनात चिकित्सक डॉ.हिमांशु शेखर की पिटाई भी कर दी। नाराज लोगों ने अस्पताल के इमर्जेंसी कक्ष पर पथराव भी किया। चिकित्सक ने बाथरुम में छिप कर जान बचाई। तकरीबन दो घंटे तक परिजनों ने आतंक मचाया। जबकि, अस्पताल की सुरक्षा को तैनात होमगार्ड जवान मूक दर्शक बने रहें.


इस घटना से नाराज चिकित्सक और कर्मी गुरुवार को सामूहिक हड़ताल पर चले गए हैं। चिकित्सक और कर्मियों ने सदर अस्पताल की इमर्जेंसी, ओपीडी और प्रसव समेत तमाम सेवाएं ठप कर दी है। अस्पताल परिसर में धरना-प्रदर्शन कर आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। चिकित्सक सुरक्षा मिलने तक काम पर नहीं लौटने पर अड़े हैं। वे अस्पताल से होमगार्ड जवानों को हटाने और उनकी जगह सैप की तैनाती की मांग कर रहे हैं। इसी बीच सीएस डॉ. रवींद्र कुमार और डुमरा बीडीओ मुकेश कुमार ने चिकित्सक और कर्मियों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे अपनी मांग पर अड़े हैं।




इस हड़ताल के चलते मरीजों का बुरा हाल हो गया है। बताया गया है कि बुधवार की रात डुमरा प्रखंड के लगमा निवासी लाल चंद्र दास की पत्नी शैल देवी (70) को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह दमा की रोगी थी, उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। इससे नाराज परिजनों ने चिकित्सक की पिटाई और तोड़फोड़ करते हुए अस्पताल में जम कर हंगामा किया। बाद में परिजन शव लेकर घर चले गए।

Input : Dainik Jagran |




Comment Box