रीगा चीनी मिल के मजदूर गए हड़ताल पर | सीतामढ़ी लाइव

0

रीगा चीनी मिल के मजदूर अपने लंबित मांगों को लेकर मंगलवार की रात 12:00 बजे से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं.

कई दौर की बातचीत के बाद भी प्रबंधन तथा जिला प्रशासन को हड़ताल रोकने में सफलता नहीं मिल पाई. मिल प्रबंधन ने इस मामले पर कड़ा निर्णय लेते हुए वर्कर यूनियन के महासचिव मनोज कुमार को निलंबित करते हुए मिल के परिसर में आने पर भी रोक लगा दी है. इसके साथ ही प्रबंधन ने मिल वर्कर्स यूनियन की मांगों को मानने से भी मना कर दिया है.


चीनी मिल में काम कर रहे कामगारों ने बताया कि प्रबंधन की रणनीति डालो और राज करो की हो गई है इसीलिए मिल प्रबंधन द्वारा दूसरा मजदूर यूनियन भी बना दिया गया है जो उनके ही इशारों पर काम करता है.

रीगा मील वर्कर्स यूनियन के महामंत्री मनोज कुमार ने बताया कि 27 दिसंबर 2017 को सरकार के प्रतिनिधि, यूनियन के प्रतिनिधि एवं रीगा मिल प्रबंधन के द्वारा त्रिपक्षीय समझौता हुआ था जो अभी तक लागू नहीं हुआ. इस समझौते के संबंध में सदर एसडीएम ने 28 जनवरी 2019 को आदेश जारी करते हुए 1 सप्ताह में लागू करने का आश्वासन दिया था पर आदेश आज तक लागू नहीं हो सका. आगे यूनियन के महामंत्री मनोज कुमार कहते हैं कि हम लोग शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांग को लेकर हड़ताल पर बैठे हैं.


मजदूरों का चीनी मिल पर है बकाया :-

मजदूरों का चीनी मिल पर बकाया है चीनी मिल में कार्यरत कामगारों ने बताया कि प्रबंधन की रणनीति के कारण हमारा पैसा नहीं मिला है. इसीलिए एक दूसरा यूनियन प्रबंधन द्वारा बना दिया गया है.

गन्ना किसानों को परेशानी :–

जिले में एकमात्र गन्ना मिल होने के कारण आसपास के किसान यहां गन्ना बेचने आते हैं. लेकिन मजदूरों एवं मिल प्रबंधन के बीच विवाद को लेकर किसान परेशान हैं. मिल के बाहर किसान गन्ना लेकर खड़े हैं लेकिन काम बंद पड़ा है.

© Sitamarhi LIVE | Team



Comment Box