रंगारंग कार्यक्रमों के साथ हुआ तीन दिवसीय सीतामढ़ी महोत्सव का समापन

0

माता जानकी की जन्मस्थली सीतामढ़ी के पुनौरा धाम में रविवार की रात तीन दिवसीय सीतामढ़ी महोत्सव का समापन हो गया।

समारोह के अंतिम दिन देश स्तर के कवियों ने जहां वीर रस, श्रृंगार रस और हास्य रस के जरिए लोगों को गुदगुदाया बल्कि, भरपुर मनोरंजन भी किया। कवियों ने देश की राजनीति और कुरीतियों पर कटाक्ष किया। वहीं सामाजिक विषमताओं के खिलाफ आवाज उठाया। कवियों ने नेकी की राह चलने का संदेश दिया। युवाओं का हौसला बढ़ाया। कवियों के निशाने पर राजनेता और अधिकारी रहे।

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र से आए कवि कमलेश राजहंस, वाराणसी से आए सलीम शिवालवी व नागेश शांडिल्य, इलाहाबाद से आए अखिलेश द्विवेदी, मिर्जापुर से आई विभा सिंह, प्रतापगढ़ से आई साक्षी तिवारी, रेणूकूट से आए कुंवर सिंह कुंवर, और बिहार के कैमूर से आए शंकर कैमूरी ने अपनी रचनाओं से शमा बांध दिया। कार्यक्रम के दौरान अवध से आए कवियों का जानकी जन्मस्थली में भव्य स्वागत किया गया। कवियों ने अपने स्वागत के लिए शब्दों के जरिए आभार भी जताया।


समारोह में सांसद सुनील कुमार पिटू, रमा देवी, विधान पार्षद देवेश चंद्र ठाकुर, विधायक अमित कुमार टून्ना, डॉ. रंजू गीता, जिप अध्यक्ष उमा देवी, उपाध्यक्ष देवेंद्र साह, डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह, एसपी अनिल कुमार, लोक अभियोजक सह बार काउंसिल सदस्य अरुण कुमार सिंह, श्रम अधीक्षक मनीष कुमार, डीआइओ मुकेश कुमार, एसडीओ मुकुल कुमार गुप्ता, एसडीपीओ सदर डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र, सीएस डॉ. रवींद्र कुमार, डीआइओ डॉ. आरके यादव, एडीएम मुकेश कुमार, डीपीआरओ परिमल कुमार व पुनौरा थानध्यक्ष पंकज कुमार आदि मौजूद थे।

इसके पूर्व वैशाली के महनार से आए विनोद कुमार सिंह ने भजन पेश किया। जबकि नीतू नवनीत ने रम जईसन बेटा तू दही, बेटी सीता समान के जरिए नारी शक्ति का अलख जगाया। औरंगाबाद से आई डिम्पल, श्रद्धानंद अपना गृह के बच्चे, खुशबू चौधरी, राजन झा और नेहा झा ने अपनी गीतों के जरिए लोगों का मनोरंजन किया। शनिवार की देर रात तक स्थानीय कलाकारों के साथ-साथ वॉलीवुड की प्रसिद्ध गायिका प्रियंका भारद्वाज और प्रिया मल्लिक ने अपनी सुमधुर आवाज की तान से सबका मन मोह लिया। जबकि वॉलीवुड कलाकार फूल सिंह ने लोगों का जबरदस्त मनोरंजन किया। कत्थक के जरिए लावण्या राज ने यादगार प्रदर्शन किया।


जबकि दूसरे दिन भी आम जनता और जनप्रतिनिधियों की डिमांड पर डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह ने भी गीत गाए। इस दौरान अधिकारियों की टीम ने भी मंच पर ठुमके लगाए। बताते चलें कि शुक्रवार को जिला प्रशासन और पर्यटन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय सीतामढ़ी महोत्सव का शुभारंभ हुआ था। सूबे के नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा, पर्यटन मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि और सांसद सुनील कुमार पिटू ने इसका उदघाटन किया था। पहले दिन तृप्ति शाक्या ने भक्ति रस के तराने छोड़ तो वॉलीवुड कलाकार प्रिया मल्लिक और फुल सिंह ने नज्मों के जरिए धमाल मचाया था। रवींद्र जॉनी ने लोगों को हास्य के रंग में डूबो जम कर हंसाया। जबकि इजेडसीसी के कलाकारों ने लोक नृत्य की प्रस्तुति के जरिए शमा बांधा।

स्थानीय कलाकारों दीक्षा कुमारी, निरूपा कुमारी, कुमार अशोक, संतोष झा, राघवेंद्र झा, संदीप कुमार आदि ने सुरों की महफिल सजाई थी। कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण विद्या भारती की छात्राओं द्वारा पेश साूहिक गीत और नृत्य रहा। इसके अलावा छऊ नृत्य और जट-जटिन नाच का केंद्र रहा। जबकि दूसरे दिन शनिवार को कलाकारों ने एक से बढ़ कर एक प्रस्तुतियों के माध्यम से शमा बांध दिया। महोत्सव के मंच से गीत, संगीत, नृत्य और लोकगीत की अनूठी युगलबंदी दिखी थी। लोक गायन के जरिए कविता चौधरी, अंचला कुमारी, मोनी वैदेही ने शमा बांधा तो मगध कला केंद्र और स्वरा आर्ट एंड कल्चर के कलाकारों ने भावपूर्ण नृत्य के जरिए लोक कलाओं की बानगी पेश की।

वहीं संजीव नायक ने अपनी शानदार आवाज में लोकगीत का प्रदर्शन कर लोगों के थिरकने पर विवश कर दिया था।

वॉलीवुड की प्रसिद्ध गायिका प्रियंका भारद्वाज और प्रिया मल्लिक ने अपनी सुमधुर आवाज की तान से सबका मन मोह लिया। जबकि अधिकारियों की बेसूरा टीम ने भी खूब मनोरंजन किया। इस दौरान कई अधिकारी मंच पर थिरकते नजर आए। समारोह के अंत में विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर काम करने वाले लोग पुरस्कृत किए गए।

Sources : Dainik Jagran.



Comment Box