भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति का प्रतीक है सतुआनी पर्व

0

वेटरन्स इंडिया सीतामढी़ (अखिल भारतीय पूर्व सैनिक संगठन) द्वारा रविवार को सतुआनी, वैशाखी एवं चैत नवमी के शुभअवसर पर संगठन की संरक्षक डॉ प्रतिमा आनंद के आवास पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में सतुआनी बैसाखी एवं चैतनवमी पर्व के महत्वता को बताते हुए कहा कि यह पर्व हमारे भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति का प्रतीक पर्व है जिसको हम लोग भूलते जा रहे हैं. जिससे हमारी संस्कृति विलुप्त होती जा रही है.

जिला संयोजक अनिल कुमार ने कहा यह पर्व किसान एवं मजदूर अपने खेतों में मेहनत करने के बाद जो फसल निकलता है, उसकी खुशी में यह पर्व मनाते है. देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न तरीकों से यह पर्व मनाया जाता है. पंजाब में आज के दिन ठंडा पानी पिलाकर लोग इस पर्व को मनाते हैं.



मौके पर डॉ इंदु गुप्ता, उमेश झा, सुरेश कुमार, संदीप कुमार, नवीन कुमार, रंजीत कुमार, अवनीश कुमार, रामबालक चौबे, रामेश्वर पूर्वे, लालमोहन, जितेंद्र यादव, उमेश चौधरी, पूनम शाह, आईकॉन डांस जोन के बच्चे, रघुनाथ साह, नरेंद्र सिंह, सुशील राय, लक्ष्मी प्रसाद, नंदलाल शाह, समेत अन्य कई उपस्थित थे.

© Sitamarhi LIVE | Team




Comment Box