बाजपट्टी विधायक डॉ रंजू गीता ने ₹3.17 करोड़ की योजना का किया शिलान्यास | सीतामढ़ी लाइव

0
श्याम गोपाल | बाजपट्टी संवाददाता | सीतामढ़ी लाइव

सीतामढ़ी जिले के बाजपट्टी में बोधायन नगरी की सौंदर्यीकरण को लेकर विभाग की ओर से मिले 3.14 करोड़ रुपए की योजना का शिलान्यास स्थानीय विधायक डॉ रंजू गीता ने किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बोधायन नगरी में आने वाले सभी पर्यटकों को सारी सुविधा मिलेगी।

मंदिर के निर्माण का शिलान्यास करने के बाद विधायक ने मन्दिर में विधिवत पूजा-अर्चना की। इस अवसर पर ग्रामीण सहित काफी संख्या में इलाके के गणमान्य लोग मौजूद रहे।मंच का संचालन सुनील कुमार झा व अध्यक्षता चन्द्रदेव प्रसाद ने किया। वहीं विधायक डॉ रंजू गीता ने कहा कि बोधायन नगरी के दक्षिण सुशोभित सरोवर (तालाब) हज़ारों लोगों के आस्था का केंद्र है और हम सब मिलकर यहां भव्य बोधायन मंदिर का निर्माण करेंगे। प्रखण्ड के गणमान्यों व गाँव वासियों ने श्री विधायक का फूल मालाओं से स्वागत किया। इसके बाद पर्यटन विभाग की ओर से स्वीकृत राशि का लोगो ने विधायक के प्रति आभार व्यक्त किया। विधायक के प्रति मंदिर में सहयोग पर आभार व्यक्त करते हुए गाँव में मूलभूत सुविधाओं की भी मांग की। विधायक ने गाँव की समस्याओं पर त्वरित गति से कार्रवाई का भरोसा दिलाया। कहा कि क्षेत्रीय समस्याओं का समाधान उनकी मूल प्राथमिकता में शामिल है। मौके पर जदयू किसान प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष अमर कुमार सिंह, जदयू प्रखण्ड अध्यक्ष चन्द्रदेव प्रसाद, रामबाबू सिंह, दिलीप कुमार, व्यवसायिक प्रकोष्ठ अध्यक्ष सुनील बिहारी, सियानन्दन सिंह, बिंदु ठाकुर, गुड्डू कुमार, किसान प्रकोष्ठ जिलामहासचिव अजय कुमार, देवेंद्र झा, सुनील कुमार सुमन, पंचायती राज प्रकोष्ठ अध्यक्ष दिलीप कुमार साह, धीरेंद्र कुँवर, विमल चौधरी, संजय कुमार, रंजन कुमार सिंह, संजय मिश्रा, नरेश राय, राजदेव राय, वीरेंद्र पटेल, विशेशर राय, हरेन्द्र पटेल, बिंदु ठाकुर, पंकज कुमार सहित अन्य मौजुद थे।


पर्यटक गेस्ट हाउस व सरोवर का सौंदर्यीकरण सहित मिलेगी अन्य सुविधा –

विधायक ने शिल्यान्यास के दौरान कहा कि आज मन्दिर की सौंदर्यीकरण करने को ले आधारशिला रखी गई हैं। बोधायन मन्दिर के दक्षिण स्थित सरोवर के सौंदर्यीकरण कर सरोवर के किनारे पर्यटक को बैठने के लिए तमाम सुविधा के साथ साथ मन्दिर के चारों ओर पक्का घाट का निर्माण, परिसर में मिट्टीकरण व सोलिंग, परिक्रमा स्थल, 72 फिट लम्बा व 40 फिट चौड़ा दो मंजिला धर्मशाला, चारो ओर सोलर लाइट व सार्वजनिक शौचालय सहित अन्य सुविधा पर्यटक को मिलने लगेगी.


ऐतिहासिक व पौराणिक आख्यानों में दर्ज हैं भगवान बोधायन की गाथा –

भगवान बोधायन की गाथा ऐतिहासिक व पौराणिक आख्यानों में आज भी दर्ज हैं। इनकी मंदिर करीब 12 एकड़ में फैली हुई हैं। बोधायनाख्यान पुस्तक में आलेखो अनुसार दरभंगा जिला के श्री पलट लाल के द्वारा वर्णित आज भी उपलब्ध है कहा जाता है कि श्री पलट लाल (सियाराम) वकील थें एवं उनके शिष्य स्वामी श्री सार्वभौम वासुदेवाचार्य जी महाराज थे. बोधानाख्यान पुस्तक में वर्णित आलेखों के अनुसार सुंदरवन प्रदेश के समिप ही पूर्व दिशा में महर्षि गौतम जी का आश्रम ,दक्षिण में भैरव जी का स्थान, पश्चिम में अत्यंत समीप श्री जानकी माता की प्राक्टय स्थली श्री सीतामढ़ी और उत्तर में श्री जनकपुरधाम है. उनके बीच में निर्मल शीतल जल वाला बोधायन सर नाम का एक सरोवर सुशोभित है जिसके पूर्व में पीपल, दक्षिण में पाकड़ ,पश्चिम में आम्र एवं उत्तर में वट के बृक्ष शोभा पा रहे हैं।

© Sitamarhi LIVE | Team


Comment Box