बड़ी ख़बर : सीतामढ़ी में डॉक्टर गिरफ्तार, कोरोना के नाम पर मरीज़ को लूटने का आरोप

0
158

सीतामढ़ी समेत पूरी दुनिया को रोना मत मारी के दौर से गुजर रही है. हालात बेहद गंभीर है और ऐसे में चिकित्सकों के ऊपर निर्भरता बढ़ गई है. संक्रमित लोग सरकारी अस्पताल व निजी अस्पतालों का चक्कर लगा रहे है. डॉक्टर अपनी जान की बाजी लगाकर मरीजों को बचाने में लगे हैं तो कुछ डॉक्टर मरीजों का आर्थिक शोषण करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे.

दरअसल, मंगलवार को सीतामढ़ी सदर अस्पताल रोड स्थित मणि हॉस्पिटल के संचालक डॉ. नीलमणि को नगर थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. डॉक्टर पर कोरोना संक्रमित के परिजनों से एक लाख रुपये का डिमांड कर 85 हज़ार लेने के बावजूद इलाज पर्ची नहीं देने का आरोप है.


जानकारी के मुताबिक परसौनी थाना क्षेत्र के परशुरामपुर निवासी अजय शर्मा की पत्नी मुन्नी देवी को 20 मई को मणि हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. वहीं, 24 मई को छुट्टी के बाद परिजनों से एक लाख रुपए की डिमांड की गई जिसके बाद परिजनों ने 85 हज़ार दिए लेकिन अस्पताल के द्वारा पर्ची नहीं मिली और डरा धमकाकर मरीज को भगा दिया गया.

इस बाबत पीड़ित परिवार ने नगर थाना में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई थी. इस मामले में नगर थानाध्यक्ष विकास कुमार राय ने त्वरित कार्रवाई करते हुए चिकित्सक नीलमणि को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

आपको बता दें कि डॉक्टर नीलमणि के क्लिनिक पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा पूर्व में आधा दर्जन से अधिक बार कार्रवाई की गई है. हॉस्पिटल को सील भी किया गया है लेकिन स्वास्थ्य विभाग के ही अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी अस्पताल आराम से चल रहे हैं.

© Team.



Comment Box