फाइलों में सिमटा सीतामढ़ी – जयनगर रेल प्रोजेक्ट

0

सीतामढ़ी से मधुबनी होते हुए जयनगर रेल मार्ग की मांग लंबे समय से होती आ रही है. इस रेलमार्ग को लेकर करीब 9 साल पहले वर्ष 2009 में मंजूरी दी गई थी. सरकारे बदलती गई और प्रोजेक्ट ठंडे बस्ते में चला गया.

आपको जानकर हैरानी होगी कि रेलवे बुक में रेल परियोजना का नाम भी दर्ज है. इसे बनाने की स्वीकृति मिलने के बाद सर्वे भी किया गया था जहां सर्वे के बाद मार्गों को देखकर लगभग एक दर्जन स्टेशनों और हॉल्ट का चयन भी कर लिया गया. रेलवे द्वारा जमीन के अधिग्रहण के लिए मापी की गई लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला.


जयनगर सीतामढ़ी रेल परियोजना बनने से 3 जिलों, मधुबनी सुपौल एवं सीतामढ़ी के निर्मली, लोकही, जयनगर, बासोपट्टी, हरलाखी, बेनीपट्टी, चोरौत, सुरसंड और सीतामढ़ी प्रखंडों के दर्जनों गांव को जोड़ने का काम करेगा.

© Sitamarhi LIVE | Team.




Comment Box