पार्षद पति की गिरफ्तारी के बाद आक्रोश, पार्षदों का इस्तीफे का एलान

0

नगर परिषद के वार्ड 17 के पूर्व पार्षद सह पार्षद पति पंकज कुमार की गिरफ्तारी और पूर्व सभापति सह सभापति के पति सह वार्ड पांच के पार्षद सुवंश राय समेत चार के खिलाफ इओ दीपक झा द्वारा नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद नगर परिषद में टकराव बढ़ गया है।

पूर्व सभापति की तलाश में पुलिस द्वारा सभापति विभा देवी के घर के मेन गेट का ताला तोड़ कर कमरे में पुलिस के घुसने को लेकर अब पार्षदों ने सामूहिक रूप से आंदोलन का बिगुल फूंक दिया है। वार्ड पार्षदों ने नगर थाने में इओ द्वारा दर्ज प्राथमिकी को झूठ करार दिया है, वहीं प्राथमिकी वापिस लेने की मांग की है। अन्यथा पार्षदों ने सामूहिक रूप से पद से इस्तीफा देने का एलान किया है।


वार्ड पार्षद संजू गुप्ता के आवास पर सभापति विभा देवी की अध्यक्षता में नगर परिषद के वार्ड पार्षदों की बैठक में यह निर्णय लिया गया। पार्षदों ने जहां आवास योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया, वहीं इओ पर रिश्वत वसूलने का भी आरोप लगाया। साथ ही डीएम से मामले की किसी सक्षम अधिकारी से निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। आधी रात सभापति आवास का ताला तोड़ कर घुसने की पुलिसिया कार्यशैली पर सवाल उठाया। कहा कि महिला जनप्रतिनिधि के आवास पर पुलिस ने बगैर महिला पुलिस या महिला बल के छापेमारी की। छापेमारी के दौरान पुलिस पर दु‌र्व्यवहार का भी आरोप लगाया। साथ ही पुलिस के खिलाफ निदा प्रस्ताव पारित किया। पार्षदों ने डीएम-एसपी से मामले को गंभीरता से लेने की मांग की। साथ ही वरीय अधिकारियों को भी पत्र भेजने का निर्णय लिया। कहा कोई कार्रवाई नहीं की गई तो पार्षद सामूहिक रूप से इस्तीफा दे देंगे।


मौके पर उप सभापति दीपक मस्करा, हलीमा खातून, गायत्री देवी, रीता गुप्ता, नगीना देवी, मंजू देवी, संजय शर्मा, मनोज कुमार, मनीष कुमार, अजय मंडल, जय नारायण राउत, विश्वराज, इरशाद अहमद, सुनील कुमार, महेश कुमार, सीमा देवी और जितेंद्र प्रसाद आदि मौजूद थे।



यह है मामला

23 अप्रैल को पूर्वी चम्पारण जिले के पताही थाना के महम्मदी निवासी सह नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी दीपक झा के आवेदन पर नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। जिसमें वार्ड पांच के पार्षद सुवंश राय, वार्ड 17 के पार्षद पति पंकज कुमार, वार्ड चार के पार्षद पति ताहिर और वार्ड 22 के पार्षद मनोज कुमार के अलावा अज्ञात को आरोपित किया गया था। दर्ज प्राथमिकी में कार्यपालक पदाधिकारी ने बताया है कि 22 अप्रैल को 12 बजे दिन में कार्यालय में काम करने में व्यस्त थे। इसी बीच वार्ड 5 के पार्षद सह पूर्व सभापति सुवंश राय, दो-तीन पार्षद समेत समर्थकों के साथ कार्यालय में पहुंच कर गाली-गलौज की। जान से मारने की धमकी दी। साथ ही सरकारी काम-काज में बाधा पहुंचाया। इतना ही नहीं कार्यालय में जम कर हंगामा किया।


पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर देर रात वार्ड 17 के पार्षद पति सह कोट बाजार वार्ड 12 निवासी पंकज कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वहीं सभापति विभा देवी के पति सह वार्ड पांच के पार्षद सुवंश राय की तलाश में वार्ड एक स्थित उनके आवास पर छापेमारी की थी। पुलिस ग्रिल और गेट का ताला तोड़ सभापति के आवास में दाखिल हुई थी.

Input : Dainik Jagran.




Comment Box