अंतरजिला लूटेरा गिरोह के दो बदमाश आ‌र्म्स के साथ गिरफ्तार | सीतामढ़ी लाइव

0
30
(फ़ाइल फ़ोटो)

एसपी सुजीत कुमार द्वारा गठित पुलिस टीम ने मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर में छापेमारी कर अंतर जिला लूटेरा गिरोह के दो सदस्य को आ‌र्म्स के साथ गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। पुलिस की टीम ने एक देसी पिस्टल, दो कारतूस, दो मोबाइल और दो पल्सर बाइक के साथ अंतर जिला लूटेरा गिरोह के विक्रम कुमार और संतोष कुमार नामक बदमाशों को गिरफ्तार कर जिले में लूट और छिनतई के 11 मामलों का उदभेदन किया है। गिरफ्तार बदमाशों ने सीतामढ़ी जिले के रीगा थाने में 5, रून्नीसैदपुर में 5 और सुप्पी थाना में 1 समेत लूट के 11 मामलों में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। इसके अलावा दरभंगा, पूर्वी चम्पारण, समस्तीपुर और मुजफ्फरपुर जिले में भी लूट के दर्जनों वारदातों को अंजाम देने का गुनाह कबूला है। पांच सदस्यीय गिरोह का किंगपीन मुजफ्फरपुर जिले के बैरिया इलाके का रोहित कुमार है। रोहित पूर्व में माइक्रो फाइनेंस कंपनी का कर्मी था। बाद में उसने अपना गिरोह खड़ा किया। इसमें मीनापुर के तीन और बैरिया के दो समेत पांच सदस्य हैं। रोहित समेत दो की तलाश में छापेमारी जारी है। पूछताछ में बदमाशों ने बताया है कि लूट के पैसे से अय्याशी करते थे। महंगी बाइक और मोबाइल खरीदते थे। समाहरणालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में रविवार की शाम आयोजित प्रेस वार्ता में एसपी सुजीत कुमार ने इसकी जानकारी दी। एसपी ने बताया कि 01 फरवरी को रीगा के मझौरा गांव के पास दरभंगा निवासी व भारत फाइनेंस कंपनी के कर्मी से दो बाइक पर सवार चार बदमाशों ने डेढ़ लाख रुपये लूट लिए थे। वारदात के बाद भागने के क्रम में मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर थाना के श्यामपुर निवासी सुनील कुमार पकड़ा गया। पूछताछ के दौरान सुनील ने अपने गैँग के सदस्यों की जानकारी दी। इसके बाद एसपी द्वारा रीगा सर्किल इंस्पेक्टर अनिल कुमार शर्मा के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई, जिसमें रीगा थानाध्यक्ष सुभाष मुखिया व सुप्पी थानाध्यक्ष सुबोध कुमार और सशस्त्र बल को शामिल किया गया। विशेष टीम ने मीनापुर में छापेमारी कर लूट में प्रयुक्त पल्सर बाइक और आ‌र्म्स के साथ दोनों बदमाशों को दबोच लिया। एसपी ने बताया कि गिरफ्तार बदमाशों की निशानदेही पर छापेमारी जारी है। बताया कि बदमाशों को कोर्ट में पेश कर 24 घंटे के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी। मौके पर एसडीपीओ सदर डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र व इंस्पेक्टर अनिल कुमार शर्मा आदि मौजूद थे।



Comment Box