Sex work : ये हैं 6 सबसे बड़े रेड लाइट एरिया

0
132

सोनागाछी, कोलकाता इसे एशिया का सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया भी कहा जाता है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, यहां करीब 11 हजार सेक्स वर्कर्स काम करती हैं. इनमें कम उम्र से लेकर 40 साल से अधिक उम्र की महिलाएं भी शामिल हैं. यहां सैकड़ों बहुमंजिला इमारते हैं जहां सेक्स वर्कर्स रहती हैं और ग्राहकों का इंतजार करती हैं. सोनागाछी रेड लाइट एरिया के ऊपर बनाई गई डॉक्युमेंट्री Born into Brothels को ऑस्कर अवॉर्ड भी मिल चुका है.

कमाठीपुरा, मुंबई


यह देश का दूसरे सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया है. 25 साल पहले यहां करीब 50,000 सेक्स वर्कर्स हुआ करती थीं. लेकिन बाद के सालों में इनकी संख्या में कमी आई. जगह की कमी और रहने की दिक्कत की वजह से कई सेक्स वर्कर्स महाराष्ट्र के दूसरे जगहों पर चली गईं. 2005 में डांस बार पर बैन लगने के बाद काफी लड़कियां कोई और रोजगार नहीं मिलने पर सेक्स वर्कर के रूप में यहीं काम करने लगी थीं.

. बुधवार पेठ, पुणे यहां करीब 5 हजार सेक्स वर्कर काम कर रही हैं. बुधवार पेठ में करीब 400 कोठे हैं और 7 हजार सेक्स वर्कर्स काम कर रही हैं. यहां दिन में जहां बाजार पसरा होता है, दुकानों की रौनक होती है, उसी जगह पर शाम में सेक्स वर्कर अपने ग्राहकों की तलाश करती 

मीरगंज, इलाहाबाद इलीगल ट्रैफिकिंग के लिए इस रेडलाइट एरिया को अधिक बदनाम माना जाता है. कई बार पुलिस ने यहां कार्रवाई करके महिलाओं को छुड़ाया है. यहां 4 गलियां हैं जहां सेक्स वर्कर रहती हैं. शुरुआत में मीगरगंज में मुजरा का भी आयोजन होता था.

जीबी रोड नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास स्थित जीबी रोड रेड लाइट एरिया में करीब 1000 सेक्स वर्कर्स काम करती हैं. दो से तीन मंजिली इमारतों में यहां महिलाएं रहती हैं. इन घरों के निचले फ्लोर में दुकानें हैं. रोड का नाम गार्स्टिन बैस्टन होने की वजह से इसे जीबी रोड कहा जाता है. हालांकि, बाद में सड़क का नाम बदलकर स्वामी श्रद्धानंद मार्ग कर दिया गया, लेकिन लोग इसे जीबी रोड के नाम से ही याद रखे हैं.

चतुर्भुज स्थान, मुजफ्फरपुर, बिहार यहां एक मशहूर मंदिर के पास रेड लाइट एरिया है. यहां सेक्स वर्कर्स प्राचीन काल से ही रह रही हैं. यहां भी काफी संख्या में सेक्स वर्कर्स काम करती हैं.



Comment Box