14 देशों से लगती है चीन की सीमा, 23 देशों की जमीन पर जताता है हक, जानें ये 10 खास बातें

0
9

India China Face off : पूर्वी लद्दाख (ladakh) में चीन और भारत के बीच तनाव जारी है. इस तनाव को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (donald trump) ने कहा है कि भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव को कम करने की खातिर अमेरिका (america) दोनों देशों से बात कर रहा है. इस बीच आइए आपको चीन की भौगोलिक दशा के बारे में कुछ बात बताते हैं. दरअसल, चीन की सीमा भले ही 14 देशों से लगती हो, लेकिन वह कम से 23 देशों की जमीन या समुद्री सीमाओं पर दावा जताता है.


ला ट्रोबे यूनिवर्सिटी की एशिया सुरक्षा रिपोर्ट ने यह खुलासा किया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन ने जिस तरह अक्साइ-चिन को हड़पा और अब गलवान घाटी पर अपना कब्जा जमाने की नापाक कोशिश कर रहा है, वह उसके लिए नया नहीं है. चीन अब तक दूसरे देशों की 41 लाख वर्ग किमी भूमि कब्जे में ले चुका है यह मौजूदा चीन का 43% हिस्सा है. ड्रैगन ने पिछले छह-सात दशकों में अपने आकार को भी दोगुना कर लिया है.


  • ताइवान : 35 हजार वर्ग किमी वाले समुद्रों से चारों ओर से घिरे ताइवान पर लंबे समय से चीन की नजर है.
  • हांगकांग : चीन ने 1997 में यहां कब्जा कर लिया. चीन का 50.5% विदेशी निवेश यहां से ही आता है.
  • मकाउ : 1999 में पुर्तगालियों ने चीन को मकाउ सौंप दिया था.
  • भारत : चीन का भारत के 38 हजार वर्ग किमी पर कब्जा है. 14,380 वर्ग किमी अक्साइ-चिन का व 5,180 वर्ग किमी पीओके का.
  • पूर्वी चीन सागर : यहां के 81 हजार वर्ग किमी के आठ द्वीपों पर चीन की नजर है. यहां जापान के साथ चीन का टेंशन चल रहा है.
  • रूस से सीमा विवाद : रूस से 52 हजार वर्ग किमी क्षेत्र पर चीन का विवाद है. 1969 में चीन ने रूस पर हमला किया था, जिसमें उसे मुंह की खानी पड़ी थी.
  • दक्षिण चीन सागर : चीन इस क्षेत्र को सात देशों से हड़पने की कोशिश में है. 35.5 लाख वर्ग किमी में फैले क्षेत्र पर चीन दावा करता है.

Input : Prabhat khabar.



Comment Box