भारत में इन उद्योगपतियों से मिले पोम्पियो, जानें इस मुलाकात में क्या हुई बात

0

माइक पोम्पियो ने टाटा समूह के मानद चेयरमैन रतन टाटा, दिग्गज बैंकर उदय कोटक और महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा से मुलाकात की. इस मुलाकात में व्यापारिक रिश्तों से लेकर नौकरियों के सृजन तक पर चर्चा हुई.

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो रतन टाटा सहित भारत के कई दिग्गज उद्योगपतियों से मिले हैं. अमेरिकी दूतावास द्वारा कराई गई इस मुलाकात में पोम्पियो ने व्यापारिक रिश्तों से लेकर भारत और अमेरिका में नौकरियों के सृजन को लेकर चर्चा की है.

माइक पोम्पियो तीन दिवसीय दौरे पर भारत आए थे. बुधवार को उन्होंने टाटा समूह के मानद चेयरमैन रतन टाटा, दिग्गज बैंकर उदय कोटक और महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा से मुलाकात की.


इस मुलाकात के बाद एक ट्वीट में पोम्पियो ने बताया, ‘भारतीय कारोबार जगत के लीडर्स के साथ अमेरिका-भारत संबंधों पर अपने विचार साझा कर बहुत खुश हूं. भारत के लिए अमेरिका सबसे अच्छा कारोबारी साझेदार और शीर्ष बाजार है. दोनों देशों में व्यापारिक रिश्तों को बढ़ाने और नौकरियों के सृजन की प्रचुर संभावना है
बुधवार को ही पोम्पियो भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर से भी मिले थे. पीएम मोदी से अपनी बातचीत में अमेरिकी विदेश मंत्री ने दोनों देशों के साथ गतिरोध के कई मसलों पर बात की. उन्होंने विदेश मंत्री जयशंकर से मिलकर जी-20 समिट में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और पीएम मोदी के बीच समिट स्तरीय बातचीत की तैयारी पर बात की. जी-20 सम्मेलन जापान के ओसाका शहर में हो रहा है, जहां ट्रम्प और पीएम मोदी पहुंच चुके हैं.
इस मुलाकात के बारे में उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर बताया, ‘पोम्पियो से मुलाकात करना बेहद खुशी की बात है. आपके इस कथन को दोहराना चाहूंगा- हमारे रिश्ते मूल्यों पर आधारित हैं.’

व्यापार के कई मसलों पर बना रहा गतिरोध


गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच व्यापार के कई मसलों को लेकर गतिरोध बना हुआ है. अमेरिका अपने कंपनियों को ज्यादा से ज्यादा भारत में पहुंच देने और टैरिफ घटाने की मांग करता रहा है. भारत ने विदेशी कंपनियों के डेटा स्टोरेज भारत में ही करने और अमेरिका को स्टील एवं अल्युमिनियम के निर्यात को आसान बनाने की मांग कर रहा है.

इस बातचीत में व्यापार के मोर्चे पर बहुत अच्छी खबर नहीं मिली है, लेकिन जानकारों का मानना है कि इस बारे में बड़ी घोषणा जापान में पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रम्प की मुलाकात के बाद हो सकती है. अमेरिका को भारत के नए ई-कॉमर्स नियमों पर भी आपत्त‍ि है, जिससे वॉलमार्ट और अमेजॉन को नुकसान होने का अंदेशा है.



Comment Box