गरीब रथ ट्रेन को जल्द बंद कर सकती है मोदी सरकार, ये है वजह!

0

गरीबों के एसी में सफर करने का सपना साकार करने के लिए साल 2006 में तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव द्वारा शुरू की गई गरीब रथ एक्सप्रेस को पटरियों से हटाने की तैयारी शुरू हो गई है. इस ट्रेन को अब मेल एक्सप्रेस ट्रेन में बदला जा रहा है.

गरीब रथ ट्रेन में बड़े बदलाव की तैयारी पूरी हो गई है. सीएनबीसी आवाज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, गरीब रथ ट्रेन को जल्द सुपरफास्ट ट्रेन में बदला जाएगा. इसके साथ ही अब इसके कोचेस में भी बदलाव हो सकता है. इस ट्रेन में पहले जहां 12 कोच (सभी वातानूकूलित) होते थे, वहीं नई ट्रेन में अब 16 कोच होंगे. इसमें जनरल, स्लीपर और एसी कोच भी लगाए जाएंगे. इस पूरे मामले को लेकर सीएनबीसी आवाज़ ने रेल मंत्रालय को मेल भेजी है. लेकिन खबर लिखे जाने तक कोई जवाब नहीं आया है.
आपको बता दें कि गरीबों को एसी ट्रेन में सफर कराने के लिए साल 2006 में रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने गरीब रथ ट्रेन की शुरुआत की थी. पहली ट्रेन सहरसा-अमृतसर गरीब रथ एक्सप्रेस थी, जो बिहार के सहरसा से पंजाब के अमृतसर के बीच चलाई गई थी. इस ट्रेन में एसी 3 और चेयरकार कोच थे.

सरकार क्यों कर रही है बदलाव-गरीब रथ ट्रेनों को मेल एक्सप्रेस ट्रेन में बदलने के पीछे की वजह इस ट्रेन की बोगियों का प्रोडक्शन बंद होना माना जा रहा है. क्यों ये काफी पुरानी हैं.


> इसकी जगह पर अब आधुनिक बोगियां बनाई जा रही हैं. इसलिए गरीब रथ ट्रेनों को मेल एक्सप्रेस ट्रेन में बदला जाएगा.

महंगा हो सकता है सफर करना- उदहारण के तौर पर फिलहाल आनंद विहार टर्मिनल रेलवे स्टेशन से पटना जंक्शन की गरीब रथ ट्रेन का किराया करीब 900 रुपये है, जबकि मेल एक्सप्रेस ट्रेन के एसी 3 क्लास का किराया 1,300 रुपये के आसपास है.


team.





Comment Box