छात्राएं ऑनलाइन करेंगी आवेदन, 20 दिन में मिलेगी राशि

0

मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना के तहत स्नातक पास छात्राओं को मिलने वाली 25-25 हजार रुपये की राशि के लिए अब ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

छात्राओं का ऑनलाइन आवेदन चार स्तरों से गुजर कर सरकार तक पहुंचेगा। कॉलेज से लेकर विवि स्तर तक इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 15 दिन का समय तय किया गया है। 20 दिनों में छात्राओं के खाते में राशि भेज देनी है। ऑनलाइन आवेदन के लिए सरकार की ओर से इस सप्ताह के अंत तक पोर्टल लॉन्च किया जा सकता है। इसको लेकर दो दिन पहले सचिवालय में बीआरए बिहार विवि सहित सभी विवि के नोडल अधिकारियों की बैठक हुई। पिछले साल तय हुआ था कि 25 अप्रैल 2018 के बाद स्नातक पास सभी छात्राओं को 25-25 हजार रुपये दिए जाएंगे।

छात्राएं कॉलेज में जमा करेंगी फॉर्म, तीन दिन में भेजना है विवि

मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना के पोर्टल पर छात्राएं ऑनलाइन आवेदन करेंगी। उपकुलसचिव द्वितीय डॉ. आतिफ रब्बानी ने कहा कि छात्राओं को ऑनलाइन फॉर्म जमा करने के बाद उसका प्रिंट-आउट लेकर कॉलेज में जमा करना होगा। कॉलेज को तीन दिनों में आवेदन को प्रमाणित कर विवि में भेज देना है। विवि में तीन स्तरों पर इसकी जांच कर सरकार के पास भेजा जाएगा। पहले स्तर पर मेकर होंगे, जो आवेदन को सही फॉर्मेट में बनाकर आगे बढ़ाएंगे। इसके बाद चेकर का दायित्व होगा कि उसे चेक कर अग्रसारित करें। चेकर का यूजर आइडी उपकुलसचिव के पास होगा। अंतिम स्तर पर कुलसचिव इस फॉर्म को अप्रूव कर पोर्टल पर फाइनल सबमिट करेंगे। विवि में तीनों अधिकारियों को इस प्रक्रिया के लिए चार-चार दिन का समय दिया गया है। अधिकतम 12 दिन का समय निर्धारित किया गया है। आवेदन के बाद 15 दिनों में विश्वविद्यालय से फॉर्म को फाइनल सबमिट कर दिया जाएगा। इसके बाद पांच दिन का समय बैंक सहित अन्य प्रक्रिया के लिए रखा गया है। इसके बाद छात्राओं के खाते में राशि आ जाएगी।


ऑनलाइन में पांच कागजात करने हैं अपलोड

पोर्टल पर छात्राओं को सबसे पहले ऑनलाइन आवेदन करना होगा। छात्रा को इस पर सभी तरह की जानकारी देनी होगी। फोटो, बैंक पासबुक के पहले पेज की फोटो, मार्क्सशीट व निवास प्रमाण पत्र की कॉपी अपलोड करनी होगी।

पिछले साल की छात्राएं भी भरेंगी फॉर्म

पिछले साल स्नातक पास छात्राएं भी ऑनलाइन आवेद कर कॉलेज में प्रिंट आउट जमा करेंगी। उन्हीं का फॉर्म जमा होगा जिनके अकाउंट में राशि नहीं गई होगी। पिछले साल अधिकांश कॉलेजों की छात्राओं को राशि नहीं मिल सकी है.


Source : Agency |



Comment Box