सीतामढ़ी में तटबंधों की हालत चिंताजनक, मानसून करीब होते ही लोगों के अंदर बढ़ा खौफ

0
75

सीतामढ़ी/डुमरा: संभावित बाढ़ को लेकर जिला प्रशासन के अनुसार बचाव को लेकर प्रशासनिक तैयारी पूरी कर ली गयी. मानसून के आगमन के साथ ही बागमती, झीम, लखनदेई व अधवारा नदियों के तटबंधों की सुरक्षा के लिए अभियंताओं के साथ पेट्रोलिंग टीम तैयार किया जा रहा है. इसके लिए जल संसाधन विभाग ने चौकीदार व होमगार्ड की प्रतिनियुक्ति के लिए संबंधित विभाग को पत्र भेज दिया है. वही विभागीय अभियंता व प्रशासनिक अधिकारियों की संयुक्त टीम ने तटबंधों का निरीक्षण कर लिया है

तटबंधों की स्थिति चिंताजनक

15 जून से आपदा प्रबंधन विभाग व जल संसाधन विभाग के द्वारा नदियों के जलस्तरों की निगरानी के लिए 24 घंटे नियंत्रण कक्ष संचालित किया जायेगा. बताया गया की बागमती, अधवारा, लखनदेई व लालबकेया नदियों के बाढ़ से बचाव के लिए जल संसाधन विभाग के तटबंधों की 11 श्रृंखला जिले में है. इधर, प्रभात खबर टीम ने जिले के तटबंधों का निरीक्षण किया तो स्थिति चिंताजनक थी. गत वर्ष बाढ़ में क्षतिग्रस्त कई तटबंध का रेनकट के बाद अब तक मरम्मत कार्य शुरू नहीं हो सका है. इस कारण बाढ़ प्रभावित लोगों में खौफ का माहौल बना हुआ है.


कहते हैं अधिकारी 

संभावित बाढ़ को लेकर जिले में सभी आवश्यक तैयारी पूरी कर ली गयी है. नावो की जांच की जा रही है. संबंधित अधिकारियो के द्वारा तटबंधों का निरीक्षण कर लिया गया है. तटबंधों के सुरक्षा के लिए सुरक्षा कर्मियों की प्रतिनियुक्ति 15 जून को किया जायेगा.

शशिकांत प्रकाश, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी

सीतामढ़ी के अधीन तटबंध

-बागमती बांध ढेंग रेलवे ब्रिज के उत्तर- 5 किमी

-बागमती दायां तटबंध- 9.72 किमी

-बागमती बायां तटबंध- 28.71 किमी

-अधवारा नदी का दायां तटबंध-44 किमी

-अधवारा नदी का बायां तटबंध- 44 किमी

-रातो नदी का तटबंध- 3 किमी

-झीम नदी का तटबंध- 3 किमी

-लखनदेई नदी का तटबंध- 5 किमी

-रुन्नीसैदपुर के अधीन तटबंध

-बागमती बायां तटबंध- 28.59 किमी

-बागमती दायां तटबंध- 8.472 किमी

– सिरसिया रिंग बांध- 1.460 किमी

INPUT PARBHAT KHBAR



Comment Box