40-50 रुपये घटा मुर्गा का दाम, मरा हुआ कौवा और उल्लू मिलने से हड़कंप, बर्ड फ्लू की आशंका

0
137

बर्ड फ्लू के दहशत ने राजधानी पटना में हजारों चिकन दुकानदारों की परेशानी बढ़ गई है. चिकन खाने के शौक़ीन लोगों में बर्ड फ्लू का डर है. वे चिकन खाना कम कर दिए हैं या फिर बंद ही कर दिए हैं. पटना में मरा हुआ कौवा और उल्लू मिलने से लोगों में हड़कंप की स्थिति है. चिकन की बिक्री लगभग 40-50% कम हो गई है. जिसके कारण दाम भी अब बहुत कम हो गया है.

पटना में इन दिनों चिकन खरीददार बहुत कम दिख रहे हैं. मुर्गा की दूकान पर बहुत कम लोग दिख रहे हैं. हालांकि मटन और मछली की दूकान पर लोगों की भीड़ देखने को मिल रही है. बर्ड फ्लू के दस्तक देने की आशंका को लेकर लोग काफी डरे हुए हैं. राजधानी पटना में एक दिन में चिकन की बिक्री 40 प्रतिशत तक गिर गई है. जबकि मुजफ्फरपुर में 70 मुर्गियों के मृत पाए जाने की वजह से बिक्री कम होने का असर कीमतों पर भी पड़ा है. 


राजधानी पटना और आसपास के इलाकों में ब्रायलर चिकन के दाम प्रति किलो 160 से 180 रुपए प्रति किलो थे जो घट कर 120 से 130 रुपए किलो हो गए हैं. एक दुकान से रोज जहां औसतन 70 से 80 मुर्गे की बिक्री होती थी, वहां अब 45 से 50 मुर्गे ही बिक रहे हैं. इसके साथ ही अंडों की कीमतों में भी गिरावट होने की संभावना है. 

शुक्रवार को पटना के राजीव नगर के पास एक मरा हुआ उल्‍लू मिलने से हड़कंप मच गया. हम आपको बता दें कि इसके एक दिन पहले बिहार वर्किग जर्नलिस्‍ट यूनियन के कैंपस में मरा हुआ कौवा भी मिला था. पक्षियों की मौत से स्‍थानीय नागरिकों को दूसरे कई प्रदेशों में फैले बर्ड फ्लू की आशंका डराने लगी है.

जिला पशुपालन अधिकारी डा.एम.ए.शब्‍बर राजीवनगर क्षेत्र में मृत उल्‍लू के पाए जाने की पुष्टि करते हुए इसके बर्ड फ्लू का मामला होने से इनकार कर दिया. उन्‍होंने कहा कि प्रथमदृष्टया यह बर्ड फ्लू का मामला नहीं लग रहा है. हममे नमूने इक्‍ट्ठा किए हैं जिन्‍हें विस्‍तृत जांच के लिए वायरोलॉजी भेजा जाएगा. 

पटना में अभी तक बर्ड फ्लू का कोई कन्‍फर्म केस नहीं मिला है. इस बीच पटना चिड़ियाघर ने पक्षियों में संक्रमण रोकने के मकसद से चिड़ि‍याघर में कई सुरक्षा उपायों को लागू कर दिया है. पटना चिड़ियाघर के निदेशक अमित कुमार ने कहा कि 20 जनवरी के बाद 26 अलग-अलग प्रजातियों के पक्षियों के नूमने कोलकाता के पक्षी अनुसंधान केंद्र भेजे जाएंगे. इसके लिए मेडिकल टीम स्‍वॉब, मिट्टी और मल के नमूने इक्‍ट्ठा कर रही है.  



Comment Box