नमक के पानी गरारे करने से केवल 3 घंटे में आ जाएगी जांच की रिपोर्ट

0
66

नागपुर में स्थित राष्ट्रीय पर्यावरण इंजीनियरिंग अनुसंधान संस्थान (NEERI) के वैज्ञानिकों ने COVID-19 नमूनों के परीक्षण के लिए एक ‘सलाइन गार्गल RT-PCR टेस्ट’ विकसित की है जो तीन घंटे के भीतर परिणाम दे सकती है।

नमक के गार्गल टेस्ट से कई लाभ भी हैं – यह सरल, तेज, लागत प्रभावी, रोगी के अनुकूल और काफी आरामदायक है। यह तत्काल परिणाम प्रदान करता है और ये ग्रामीण और आदिवासी इलाकों के लिए बेहद उपयुक्त है।


नईईआरआई के पर्यावरण विषाणु विज्ञान प्रकोष्ठ के वरिष्ठ वैज्ञानिक कृष्णा खैरनार ने कहा है कि, “स्वाब संग्रह विधि के लिए समय की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, चूंकि यह एक आक्रामक तकनीक है, इसलिए यह रोगियों के लिए थोड़ा असहज है। सैंपल को कलेक्शन सेंटर ले जाने में भी कुछ समय बर्बाद होता है। दूसरी ओर, नमक का गार्गल आरटी-पीसीआर विधि तत्काल, आरामदायक और रोगी के अनुकूल है। नमूना तुरंत किया जाता है और परिणाम तीन घंटे के भीतर ही मिल जाएगा।” 

यह टेस्ट इतनी सरल है कि रोगी स्वयं नमूना एकत्र कर सकते हैं। नासॉफिरिन्जियल और ऑरोफरीन्जियल स्वैब संग्रह जैसी संग्रह विधियों के लिए तकनीकी विशेषज्ञ की जरूरत होती है और उसमें समय भी लगता है। 



Comment Box