ओवरलोडिंग पर सख्ती, अब बिहार की प्रमुख सड़कों और पुलों पर लगाए जाएंगे ऑटोमेटिक बैरियर

0
45

बिहार में ओवरलोडिंग रोकने के लिए जेपी सेतु की पहुंच पथ में लगाये गये स्वचालित बैरियर की तर्ज पर प्रदेश के अन्य प्रमुख पथों/पुलों पर भी स्वचालित बैरियर लगाने के निर्देश दिए गए। इसके अलावा मेगा परियोजनाओं की समीक्षा की गई। पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने रविवार को नेशनल हाईवे की समीक्षा बैठक के दौरान विभाग के अधिकारियों को कई और आवश्यक निर्देश दिए।  मंत्री ने कहा कि 10 दिसम्बर को कोईलवर पुल का शुभारम्भ होना है। प्रस्तावित कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा उन्होंने की।  

मंत्री ने कहा कि अगले एक महीने के भीतर पटना रिंग रोड का काम शुरू हो जाएगा। वहीं, आरा-मोहनिया रोड का काम 15 दिनों के भीतर शुरू हो जाएगा। औरंगाबाद से दरभंगा तक बनने वाली सड़क के लिए जल्द ही जमीन अधिग्रहण का काम होगा।  निविदा की प्रक्रियाधीन योजनाओं की निविदा शीघ्र सुनिश्चित करते हुए राष्ट्रीय उच्च पथ के अन्तर्गत पटना-गया-डोभी रोड का कार्य तेज गति से काम हो। आरा-मोहनिया पथ का कार्य 15 दिनों में शुरू किए जाएं।


भारतमाला के अंतर्गत प्रस्तावित औरंगाबाद-दरभंगा 4 लेन पथ के निर्माण के लिए भू-अर्जन कार्य में तेजी लाने को कहा। कोईलवर-बक्सर के निर्माण में आ रही बाधाओं को दूर करते हुए शीघ्र निर्माण कार्य पूर्ण कराने के लिए कहा। गंगा पर मटिहानी एवं साम्हो के बीच नए पुल निर्माण हेतु डीपीआर जल्द तैयार कर भू-अर्जन कार्य प्रारम्भ करने के लिए कहा। 

समीक्षा के क्रम में पाया गया कि प्रधानमंत्री पैकेज के अधीन कुल 24 योजनाओं में 1459.50 किमी राष्ट्रीय उच्च पथों का उन्नयन कार्य कुल 30 हजार 200 करोड़ की कर्णांकित राशि से कराया जा रहा है। भारतमाला परियोजना के अंतर्गत चयनित 8 परियोजनाओं के अंतर्गत कुल 925 किमी की लम्बाई में अतिरिक्त 23 हजार करोड़ की लागत से नए कॉरिडोर का निर्माण कराया जा रहा है।

पीएम पैकेज की 24 योजनाओं में 19 का कार्य प्रगति में है। एक पैकेज निविदा की प्रक्रिया में है और 4 पैकेज में भू-अर्जन कार्य प्रगति में है। इसी प्रकार भारत माला परियोजना की 8 योजनाओं में 1 योजना में कार्य प्रारम्भ किया गया है तो 1 में निविदा आमंत्रित की गई है। 4 योजनाओं में भू-अर्जन कार्य प्रगति में है तो एक में भू-अर्जन कार्य शीघ्र प्रारम्भ होना है और एक योजना का विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार किया जा रहा है।

मंत्री ने निविदा की प्रक्रियाधीन योजनाओं के निविदा का शीघ्र निष्पादन सुनिश्चित करते हुए कार्य प्रारम्भ कराने के साथ-साथ-भू-अर्जन के मामलों में जिन भू-अर्जन पदाधिकारियों द्वारा शिथिलता बरती जा रही है, उनके विरुद्ध आवश्यक अनुशासनिक कार्रवाई प्रारम्भ किये जाने हेतु प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया। बैठक में पथ निर्माण के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा, बिहार स्टेट रोड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड के प्रबन्ध निदेशक संजय कुमार अग्रवाल, एनएचएआई के क्षेत्रीय अधिकारी कर्नल चन्दन वत्स, मुख्य अभियंता अमरनाथ पाठक व अनिल कुमार सिन्हा सहित अन्य अभियंता मौजूद थे।



Comment Box