मुंबई-हावड़ा मार्ग पर रेल ट्रैक उडाने की घटना के बाद एहतियात, यात्री ट्रेनों के आगे चलेगी गुड्स ट्रेन

0
25

रेल ट्रैक उडाने की घटना के बाद रेलवे एहतियात बरत रहा है। रेलवे ने यात्री ट्रेनों के आगे गुड्स ट्रेन चलाने का फैसला लिया है। चक्रधरपुर रेल मंडल के सोनुवा व लोटा पहाड़ के बीच रविवार रात दो बजकर 15 मिनट पर नक्सलियों ने रेलवे ट्रैक को बम लगाकर उड़ा दिया।

इसके कारण अप लाइन प्रभावित हुआ जबकि धमाके से डाउन व थर्ड लाइन के ओवर हेड वायर को जोड़ने वाले कंटेनरी जगह-जगह टूट गए थे। इसके कारण सात घंटे 20 मिनट तक मुंबई-हावड़ा मार्ग बाधित रहा। जिसके कारण आठ मेल, एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेन प्रभावित रही। नक्सलियों ने 26 अप्रैल को भारत बंद की घोषणा करते हुए न सिर्फ ट्रैक को उड़ा दिया बल्कि पोस्टर लगाकर बंद की चेतावनी भी दी। घटना के बाद राउरकेला-चक्रधरपुर सेक्शन में सभी ट्रेनों की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी गई। इसके बाद रेलवे की ओर से एक गश्ती दल को घटनास्थल पर भेजा गया। आरपीएफ व जीआरपी की टीम जब मौके पर पहुंची तो पाया नक्सलियों ने अप लाइन में 35 मीटर तक के क्षेत्र में ब्लास्ट किया था और इससे एक मीटर तक का ट्रैक पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था। रेलवे की तरफ से इस मामले में डीआरएम ने जूनियर प्रशासनिक ग्रेड स्तर के अधिकारियों को जांच का आदेश दिया गया है। इसके अलावा डिवीजन में गश्त तेज कर दी गई है। साथ ही निर्णय लिया गया है कि सुबह छह बजे तक सभी मेल व एक्सप्रेस व कोचिंग ट्रेनों के आगे लाइट इंजन व गुड्स ट्रेनें चलेंगी।


नौ बजकर 35 मिनट पर शुरू हुआ परिचालन

घटना के बाद इंजीनियरिंग विभाग की टीम अप व थर्ड लाइन को ठीक करने का काम शुरू किया। डाउन लाइन को सवा सात बजे और थर्ड लाइन को आठ बजकर 35 मिनट तक दुरूस्त किया गया। सेफ्टी क्लियरेंस मिलने के बाद नौ बजकर 35 मिनट पर ट्रेनों का परिचालन फिर से शुरू किया गया।

02259 गीतांजलि स्पेशल, 02833 अहमदाबाद हावड़ा, 02222 हावड़ा पुणे दुरंतो स्पेशल, राउरकेला-सारंडा मेमो सहित अन्य मालगाड़ी।

रात लगभग सवा दो बजे एक मालगाड़ी के लोको पायलट ने सूचना दी कि लोटा पहाड़ और सोनुआ स्टेशन के बीच किमी 322 / 19-23 में नक्सलियों ने ट्रैक को उड़ा दिया है। जिसके कारण ट्रैक में 60 सेमी तक गढ़डा हो गया था। घटना की सूचना मिलने के बाद सेक्शन में सभी तरह के ट्रेनों का परिचालन को रोक दिया गया था।

इस घटना के बाद आरपीएफ की टीम ने एहतियात के तौर पर सेक्शन में पड़ने वाले तीन बड़े पुल व सभी छोटे-छोटे पुलिया की भी गहनता से जांच की गई। जांच में कुछ नहीु मिलने पर ट्रेनों के परिचालन को हरी झंडी दी गई।



Comment Box