अगर आपको महसूस हो रहे ये लक्षण तो घबराएं नहीं, कर लें खुद को आइसोलेट, शुरू कर दें इलाज

0
138

, नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर में भारत में अधिक भयावह तस्वीरें देखने को मिल रही हैं। लापरवाही, भीड़भाड़ की वजह से संक्रमण का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में अपने आप को संक्रमण से बचाना ही सबसे अधिक आवश्यक है जितनी जल्दी संक्रमित व्यक्ति को संक्रमण के बारे में जानकारी हो जाए उतनी जल्दी ही उसकी रिकवरी भी होती है।

यदि आपको बुखार, बदन दर्द, गले में दर्द, खांसी, जुकाम जैसे लक्षण महसूस हो रहे हैं तो तुरंत सतर्क हो कर अपने आप को आइसोलेट कर लें और कोरोना की जांच कराएं। इस समय रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की बहुत जरूरत हैं ऐसे में होम्योपैथिक दवाएं लेने से बहुत फायदा होगा। संक्रमण से होने वाले नुकसानों से बचने के लिए पहले ही आर्सेनिक एल्बम 30 होम्योपैथिक औषधि पांच दिन तक सुबह खाली पेट लें। गले में खराश, खांसी के लिए ब्रायोनिया 200 काफी फायदेमंद औषधि है, लेकिन बेहतर होगी कि इसे आप किसी होम्योपैथिक चिकित्सक की देख-रेख में लें। वहीं, यूपैटोरियम 200, बेलाडोना 200 और जेल्सीमियम 200 दवाई बुखार को कम करने में मदद करती हैं। बुखार के समय आप ये ले सकते हैं।


1- पल्स आक्सीमीटर की सहायता से आक्सीजन लेवल चेक करें। अपने ब्लड प्रेशर और शुगर को नियंत्रित रखें।

2- सांस फूलने पर कार्बो वेज 200, एस्पाइडोस्पर्मा टिंचर, ब्लाटा टिंचर जैसी औषधियां फेफड़े के फंक्शन को दुरूस्त करती हैं और सांस फूलना कम करती हैं।

3- सांसो का व्यायाम, अनुलोम-विलोम और प्राणायाम का प्रतिदिन अभ्यास करें।

4- रोज गर्म पानी पियें, हल्दी पानी से गरारे करें, स्टीम लें, ताकि चेस्ट में बलगम न जमने पाए।

5- ठंडे पदार्थों का सेवन न करें। दही, आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक से इस समय परहेज करें।

6- ऐसे समय में शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य का सेहतमंद रहना बहुत जरूरी है। घबराएं नहीं, कोविड नियमों का पालन करें।

7- मन को शांत रखें। अत्याधिक तनाव न लें, समय से खायें और भरपूर नींद लें।



Comment Box